गुप्त नवरात्र का महत्व (Improtance of Gupt Navratri 2021)

Gupt Navratri 2021

हिन्दू धर्म में नवरात्र  पर्व का विशेष महत्व  है। साल में चार नवरात्र मनाए जाते हैं। ज्यादातर लोग साल के दो नवरात्रियों के बारे में ही जानते हैं। ये चैत्र और शारदीय नवरात्र कहलाते हैं। लेकिन इन दो नवरात्रों के अलावा भी दो नवरात्र और होते हैं। जो गुप्त नवरात्र  है। यह गुप्त नवरात्र माघ और आषाढ़ महीने में आते हैं। माघ महीने यानि जनवरी-फरवरी में पड़ने के कारण इन नवरात्र को माघी नवरात्र भी कहा जाता है।

माघ गुप्त नवरात्रि 2021 https://vaktaram.com/

माघ महीने के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से लेकर नवमी तिथि तक माघ गुप्त नवरात्र मनाया जाता है।

गुप्त नवरात्र में भी माँ  दुर्गा जी  की पूजा की जाती है। गुप्त नवरात्र का महत्व चैत्र और शारदीय नवरात्र से भी ज्यादा है। क्योंकि गुप्त नवरात्र में मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं। गुप्त नवरात्र को खासतौर से सिद्धि-साधना आदि के लिए बहुत ही खास माना जाता है। इस दौरान व्यक्ति ध्यान-साधना करके दुर्लभ शक्तियों की प्राप्ति कर सकता है। इस समय की गई साधना शीघ्र फलदायक  होती है।

Magh Gupt Navratri 2021
Magh Gupt Navratri 2021

इस नवरात्र में साधक को संयम और शुद्धता के साथ माँ  दुर्गा जी की आराधना करनी चाहिए। गुप्त नवरात्र की पूजा के नौ दिनों में माँ  दुर्गा जी के नौ स्वरुपों के साथ-साथ दस महा विद्याओं की भी पूजा का विशेष महत्व है। ये दस महाविद्यायें हैं माँ काली, माँ तारा देवी, माँ त्रिपुर सुंदरी, माँ भुवनेश्वरी, माँ छिन्नमस्ता, माँ त्रिपुर भैरवी, माँ धूमावती, माँ बगुलामुखी, माँ मातंगी और  माँ कमला देवी हैं। क्योंकि इस दौरान माँ की आराधना गुप्त रुप से की जाती है, इसलिए  गुप्त नवरात्र कहा जाता है। सांसारिक लोग इस नवरात्रि को भी ठीक उसी तरह मना सकते हैं जिस तरह चैत्र और शारदीय नवरात्र को मनाते हैं। गुप्त नवरात्रों के नौ दिनों में देवी के नौ स्वरुपों की पूजा होती है । माँ दुर्गा के नौ स्वरुपों की पूजा नवरात्र के अलग अलग दिन की जाती है।

माघ गुप्त नवरात्र 2021 नवरात्र शुरू : 12 फरवरी 2021, दिन शुक्रवार

 नवरात्र समाप्त : 21 फरवरी 2021, दिन रविवार 

कलश स्थापना मुहूर्त : 08:34 AM से 09:59 AM 

अभिजीत मुहूर्त : 12:13 PM से 12:58 PM

12 फरवरी 2021 शुक्रवार प्रतिपदा माँ शैलपुत्री, घटस्थापना 

13 फरवरी 2021 शनिवार द्वितीया माँ ब्रह्मचारिणी 

14 फरवरी 2021 रविवार तृतीया माँ चंद्रघंटा 

15 फरवरी 2021 सोमवार चतुर्थी माँ कुष्मांडा 

16 फरवरी 2021 मंगलवार पंचमी माँ स्कंदमाता 

17 -18 फरवरी 2021 बुधवार – गुरुवार षष्ठी माँ कात्यानी 

19 फरवरी 2021  शुक्रवार सप्तमी माँ कालरात्रि 

20 फरवरी 2021 शनिवार अष्टमी माँ महागौरी, दुर्गा अष्टमी 

21 फरवरी 2021 रविवार नवमी माँ सिद्धिदात्री, व्रत का पारण

Spread the love
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    10
    Shares
  •  
    10
    Shares
  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

You May Also Like

4 Comments

  1. बहुत ही अच्छी जानकारी, धन्यवाद।

  2. गुप्त नवरात्र 🙏 में की जाने वाली पूजा का महत्व के लिए धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published.